Friday, September 28, 2012

तेरे होने का जो भ्रम था

तेरे होने का जो भ्रम था, 
तेरे होने से ना कम था।
था भी तो, कम से कम था 
आखिर भ्रम ही था!


Monday, September 17, 2012

जाने वो कैसे आशिक थे

जाने वो कैसे आशिक थे
जो हदों को पार कर गए
आपने आशिकी के लिए

दिल में एक जूनून था
आँखों में क्या जोश था
भुजदंड में लोह प्रवाहित था
आवाज़ में क्या गर्जना थी
जाने वो कैसे आशिक थे।

पागलपन की चरम थे
रक्त प्रवाहित आँखें उनकी,
फिरभी हर वक़्त नम रहती
बिजली की झंकार सी झंकृत
दिल उनका जाने कैसे नर्म रहता

मानवता पर मिटने वाले
हर दिल में बसने वाले
क्या था प्रेम-रहस्य उनका
हाड़-मांस के इस पुतले में
जाने वो कैसा मर्म था
जाने वो कैसे आशिक थे।



कुछ लम्हे पहले, एक लम्हा को हम मिले थे

कुछ लम्हे पहले,
एक लम्हा को हम मिले थे
जाने वो कौन सा लम्हा था
अब याद नहीं
अब तो बस इतना याद हैं
तुमने मुझे देखा था
मैंने तुम्हे देखा था
शायद वो एक पल था
हाँ, वो एक पल ही तो था

दिल में ऐसी कसक उठी थी
जैसे कही बम फटा था
चिथड़े उड़े थे कई मगर
किसने उन्हें देखा था
किसने उन्हें देखा था

शर्म की बोटियाँ उडी थी तब,
बेशर्मी में जब हम दोनों ने,
एक दुसरे को,
उस लम्हे में देखा था।
आग तब भी उतनी उधर थी
आग तब भी उतनी इधर थी
जाने फिरभी,
वो कौन सी दिवार
शर्म की खड़ी थी
कि तुम उस पार खड़ी थी
और मैं इस पर खड़ा था ?