Friday, October 23, 2015

कुछ इस तरह गुज़री है जिंदगी मेरे आगे

कुछ इस तरह गुज़री है जिंदगी मेरे आगे,
जैसे पालक झपक कर निकल गई मेरे आगे।
परत-दर-परत खुलता गया राज़ कहानी का,
शायद, आख़री  किरदार हो एक आईना मेरे आगे। 

No comments: