Friday, October 23, 2015

सोचा था पता पूछता हुआ

सोचा था पता पूछता हुआ
मंज़िल तक पहुँच जाऊँगा।
मगर यह न पता था कि
सड़क भी गुमराह करती है।

No comments: