Friday, October 23, 2015

लम्हों की शरारत कुछ ऐसी थी

लम्हों की शरारत कुछ ऐसी थी-
उम्र हमे मिला और जिंदगी उन्हें। 

No comments: